Menu

UMA KAILASH FOUNDATION

UNDERSTANDING SANATAN DHARMA

Hindu religion and philosophy is perhaps the most misunderstood of all religions in the world. Some people describe the Hindu religion as the texts of Shri Ramayana or Shrimad Bhagwat Gita, some describe it as history of Rama & Krishna and other deities, some describe it as tantra, some people would describe it as yoga or ayurveda etc. There is no one philosophy described by anyone in the contemporary world which can describe the Hindu religion as a whole along with various beliefs, tenets and practices.

UMA KAILASH FOUNDATION has been researching on ancient Indian Hindu texts since the last 40 years or so. The findings of the research are astounding.

The conclusion of the above research can be summed up in the following:

सनातन धर्म के विषय में अधिकांश भारतीय समाज वर्तमान समय में भ्रमित ही है। कुछ व्यक्ति इसे केवल रामायण अथवा श्रीमद्भाग्वद गीता बताते हैं, कुछ इसे राम तथा कृष्ण का इतिहास बताते हैं, कुछ इसे मात्र तंत्र बताते हैं, कुछ आयर्वेद तथा योग समझते हैं कुछ इन सब का मिश्रण इत्यादि इत्यादि। वर्तमान समय मे किसी भी धर्म गुरु ने इसका एक व्यापक चित्रण नहीं किया है जो कि समस्त तथ्यों व विषयों का समावेश करे। जो कि सनातन धर्म के समस्त मूल्य, नियम अथवा सटीक मार्ग बता सके।

ऊमा कैलाश फाउंडेशन सनातन धर्म के समस्त विषयों पर लगभग ४० वर्ष से निरंतर शोध कर रहा है। इस शोध के परिणाम अत्यधिक आश्चर्यचकित करने वाले हैं।

हमारे ४० वर्षों के शोध का निश्कर्ष निम्न तथ्यों मे समावेश किया जा सकता है।

1

Hindu religion can completely describe the existence of life on Earth. How the system was created? How the life on Earth came about? How does the system of life work and on what principle? How the system functions? What happens after death? Why we are here? And so on. These answers are not mere conjectures but solidly defined with precision. Even scientific proofs have started to trickle down slowly over the last several decades. The important part is that just knowing these facts alone solves a number of problems faced by mankind.

In contrast modern science has not been able to answer most of the above questions, let alone be precise.

विश्व मे् केवल व केवल सनातन धर्म ही है जो कि पृथ्वि पर समस्त जीवन का आस्तित्व पूर्णतया विस्तृत रूप से बता सकता है। किस प्रकार यह तंत्र बना? किस प्रकार पृथ्वि पर जीवन का सृजन हुआ? किस प्रकार यह जीवन का तंत्र चलायमान है? मृत्यु के पश्चात क्या होता है? हम पृथ्वि पर क्युं हैं? इत्यादि। इन तथा समस्त अन्य प्रश्नों के उत्तर केवल व केवल सनातन धर्म ही दे सकने मे समर्थ है कोई अन्य धर्म नहीं। विश्व का समस्त अन्य समाज इस आधुनिक युग में केवल भटक ही रहा है। इन प्रश्नों के उत्तर कोई अनुमान नहीं अपितु सटीक वास्तविक उत्तर हैं। यह तथ्य जानने मात्र से ही मानव की अनेकों समस्याओं का समाधान संभव है।

इसके विपरीत आधुनिक विज्ञान इन में से अनेकों प्रश्नों के उत्तर देने मे असमर्थ है।

Hindu Religion tells the exact path to lead a successful and prosperous life on Earth. Hindu Religion describes precisely the laws following which one can lead a happy life. It also defines the essential requirements and prerequisites. And there is no dogma attached to any law or tenet. The decision to follow the laws or not following the laws is entirely upon the free will of an individual. But Hindu religion tells as to what will happen if someone follows the laws and what will happen if someone does not follow.

Hindu Religion also defines the ultimate goal of a human being for which a human is born on Earth and exactly how that goal can be achieved.

And it does not end here.

सनातन धर्म पृथ्वि पर मानव के लिये एक सफल व समृद्ध जीवन का मार्ग प्रशस्त करता है। सनातन धर्म उन नियमों को बताता है जिनका पालन कर के मानव एक सुखी जीवन जी सकता है। इस मार्ग की महत्वपूर्ण आवश्यक्तायें। तथा इसके अनुसरण में कोई कट्टरवादी सोच नहीं है। निर्णय पूर्णतया एक व्यक्ति का अपना स्वतंत्र निर्णय है। सनसतन धर्म यह बताता है कि यदि आप अनुसरण करेंगे तो इसके क्या लाभ होंगे, यदि नहीं तो क्या हानियां हो सकती हैं।

सनातन धर्म यह भी बताता है कि मानव का वास्तविक अंतिम लक्ष्य क्या है तथा यह लक्ष्य किस प्रकार प्राप्त किया जा सकता है। इस लक्ष्य की ओर केवल चलने मात्र से ही एक व्यक्ति का जीवन सुधरने लगता है।

वर्तमान समय में सामान्य हिन्दु यह ज्ञान भुला चुका है। ऊमा कैलाश फाउंडेशन इस ज्ञान को प्रशस्त करने हेतु प्रयासरत है।

3

Hindu religion defines the exact path as to how a person can elevate himself or herself to very high levels of consciousness above the ordinary. Hindu Religion defines exact paths and procedures as to

How to become wealthy and prosperous?

How to diminish effects of adverse times in life?

How to eliminate obstructions in life?

How to achieve superior health and personality?

How to create superior situations in life in the future?

How to bring about all round development in life?

How to win over your enemies?

And numerous other objectives.

Mind you all of these are based upon definite scientific principles. These techniques have also been time tested through experience.

सनातन धर्म आध्यातमिक उच्चता की ओर चलने का मार्ग प्रशस्त करता है। इस मार्ग पर चलने हेतु हमें क्या करना है? यह सटीक विवरण ऊमा कैलाश फाउंडेशन ने समस्त हिन्दुओं तक पहुंचाने का प्रण लिया है।

किस प्रकार जीवन में समृद्धि लायें?

जीवन की प्रतिकूल परिस्थितियों का प्रभाव किस प्रकार कम करें?

जीवन में विघ्न किस प्रकार समाप्त करें?

किस प्रकार असीम स्वास्थय प्राप्त करें व उच्च व्यक्तित्व का विकास करें?

जीवन मे अनुकूल परिस्थितियां किस प्रकार सृजित करें?

जीवन को सम्पूर्ण विकास की ओर किस प्रकार अग्रसर करें?

प्रतिरोधियों को किस प्रकार निष्क्रिय करें?

तथा अनेंकों अन्य लक्ष्य किस प्रकार प्राप्त करें?

यह समझें कि हमारे बताये गये समस्त मार्ग पूर्णतया भारतीय प्राचीन ग्रंथों अथवा वैज्ञानिक शोधों पर आधारित हैं।

4

Hindu religion also defines the exact path to live a healthy life free of all of the life style diseases. According to research journal Lancet, almost 95.5% of the world population is afflicted with one or more of life style diseases. Only 4.5% of the world population is healthy.

As we all know Yoga has already proven its effectiveness all over the world.

UMA KAILASH FOUNDATION brings to you KUNDALINI YOGA. These are advanced but simple yogic exercises. These exercises describe the exact process of activation of the seven chakras through definite physical and meditative Yogic exercises.

These exercises are so effective that if done regularly one can be assured of life free from life style diseases such as Heart Problems, Blood Pressure, Diabetes, Obesity and a plethora of other diseases. We bring to you all of these straight from the Sanskrit texts and as described in the ancient texts. These exercises are also taught without making any kind of variations from the original Sanskrit texts.

BECOME A MEMBER AND START CHANGING YOUR LIFE TOWARDS BETTER AND BETTER

CLICK HERE TO BECOME A MEMBER

सनातन धर्म एक पूर्णतया स्वस्थ जीवन का भी मार्ग प्रशस्त करता है जिस मार्ग पर चल कर आप वर्तमान समय की जीवनशैली सम्बंधित बिमारियां जैसे कि हृदय रोग, उच्च रक्तचाप, मधुमेह इत्यादि से पूर्ण सुरक्षित हो सकते हैं। लैंसेट जरनल के अनुसार विश्व की ९५.५% जनसंख्या उक्त बिमारियों से ग्रसित है। विश्व की केवल ४.५% जनसंख्या पूर्णतया स्वस्थ हैं।

समस्त विश्व अब जान चुका है कि किस प्रकार योग स्वस्थ जीवन हेतु अनिवार्य है। 

ऊमा कैलाश फाउंडेशन आपके लिये कुंडलिनी योग लाया है। इन योग आसनों को सीधा दुर्लभ प्राचीन संस्कृत ग्रंथों से लिया गया है। यह योगासन कुंडलिनी जाग्रण हेतु समस्त सात चक्रों के भेदन का सटीक मार्ग बताते हैं। 

यह योगासन अत्यन्त शक्तिशाली हैं व आरम्भ करने के केवल एक सप्ताह के अन्दर चमत्कारिक परिणाम देने आरम्भ कर देते हैं तथा समस्त जीवन शेली बिमारियां जिसमे कि हृदय रोग, उच्च रक्तचाप, मधुमेह तथा मोटापा इत्यादि से छुटकारा देने में सक्षम हैं। यह समस्त योग पद्धतियां ऊमा कैलाश फाउंडेशन आपको सीधा संस्कृत ग्रंथों से प्रस्तुत करता है। 

ऊमा कैलाश फाउंडेशन के इस अभियान में सम्मिलित हों, सनातन धर्म को समझें व अपने जीवन को तुरन्त उच्चता की ओर ले जायें।

सदस्य बनने हेतु यहां क्लिक करें

 

WHAT IS LOOKING WITHIN?

अपने अन्दर झांकने की क्रिया क्या है?

WHY DO SEERS SAY THAT IT IS ALL WITHIN YOU?

'समस्त ज्ञान आपके अन्दर है' संत महात्माओं के यह कहने का तात्पर्य क्या है?

HOW YOU CAN ACTUALLY LOOK INSIDE YOU?

अपने अन्दर देखने की वास्तविक क्रिया क्या है?

The questions above are faced by all Hindus and almost every one on Earth.. Lots of wise people say that one must look within oneself, lots of contemporary saints say that all the happiness is within you yourself, you need not go to temples, you need not go and pray in front of Gods etc.

उक्त प्रश्न समस्त हिन्दु जन साधारण व समस्त मानव जाति ने समय समय पर खड़े किये हैं। अनेक संत कहते हैं कि हमे अपने अन्दर देखना चाहिये, कहते हैं कि समस्त सुख अपने अन्दर ही है, आपको मंदिरों के चक्कर काटने की आवश्यक्ता नहीं है, आपको भगवान के सम्मुख गिड़गिड़ाने की अथवा मांगने की भी आवश्यक्ता नहीं है। 

 

BUT THE BIG QUESTION IS HOW DOES ONE GO ABOUT IT?

तो यह सब किस प्रकार सम्भव है व इसके लिये क्या करना होगा? 

At UMA KAILASH FOUNDATION as a result of 40 years of research on ancient Indian texts, we have devised the exact path moving upon which one can start on this path.

यह समस्त ज्ञान ऊमा कैलाश फाउंडेशन आपको देने हेतु प्रतिबद्ध है। हमने वह मार्ग प्रशस्त कर लिया है जिस पर आप तुरन्त चलना प्रारम्भ कर सके हैं।

Just starting upon this path will bring enormous beneficial changes in your life. You can start experiencing the changes within a week of starting. 

इस मार्ग पर चलना आरम्भ करते ही आप जीवन में बड़े व लाभदायक परिवर्तनों का अनुभव करेंगे। यह अनुभव मात्र केवल एक सप्ताह में ही दीखने आरम्भ हो जायेंगे।

CLICK HERE TO BECOME A MEMBER

सदस्य बनने हेतु यहां क्लिक करें

This path is not something new. All our ancient saints defined this path.

यह कोई पूर्णतया नया मार्ग नहीं है। समस्त प्राचीन सन्तों ने यही मार्ग दर्शाया है। यही मार्ग ऊमा कैलाश फाउंडेशन आपको प्रशस्त करता है।

Only that today all of us Indians have forgotten the path. 

वर्तमान समय में यह मार्ग जन साधारण द्वारा भुला दिया गया है।

You spend so much of time, effort and money on looking good and develop your body. But do you also have a developed mind? Surprisingly None of us Indians and most across the world know what is development of mind and how to go about it? You may be in just any profession from lowest to the highest.

आप अपना इतना समय, शक्ति व धन अच्छा दीखने के लिये, शरीर को स्वस्थ्य रखने के लिये करते हैं। क्या आपने कुछ समय, शक्ति व धन अपने मन व बुद्धि को साधने हेतु किया है? क्या आपका मन व बुद्धि पूर्णतया आपके नियंत्रण मे है? मन व बुद्धि को साधने की प्रक्रिया क्या है? व मन व बुद्धि को किस प्रकार साध कर समस्त लक्ष्यों की प्राप्ति की जा सकती है? चाहे आप जिस किसी भी व्यवसाय में हों।

Take an annual membership. We shall tell the exact path, how to start on the path. Then every month we shall send a Newsletter which will describe as to what you must be doing thereafter.

ऊमा कैलाश फाउंडेशन की वार्षिक सदस्यता प्राप्त कर के इस मार्ग को जानें। हम आपको सटीक मार्ग बतायेंगे। तथा एक वर्ष तक हर महीने ई पत्रिका भी भेजेंगे।

CLICK HERE TO BECOME A MEMBER

सदस्य बनने हेतु यहां क्लिक करें

 

amazon Button (via NiftyButtons.com) iTunes Button (via NiftyButtons.com) Get on Google Play (Button via NiftyButtons.com) Facebook button via NiftyButtons.com SiteLock

VISITOR NO. 

42754